देश

जन्मदिन विशेष-देशभक्ति,वीरता और पराक्रम की अनूठी मिसाल राजस्थान के गौरव महाराणा प्रताप

देश 09 May, 2018 02:27 AM
maharana pratap

महाराणा प्रताप का जन्म 9 मई 1540 को राजस्थान के कुम्भलगढ़ में हुआ था इनके पिता राणा उदय सिंह माता का नाम जयवंताबाई था महाराणा प्रताप के बचपन का नाम कीका था महाराणा प्रताप ने कुल 11 शादिया की थी महाराणा प्रताप की सबसे बड़ी पत्नी का नाम अज्बदे पुनवर था तथा इनकी 17 पुत्र थे जिनमे अमर सिंह इनके ज्येष्ठ पुत्र थे महाराणा प्रताप का राज्याभिषेक गोगुन्दा में हुआ। बचपन से ही महाराणा प्रताप साहसी, वीर, स्वाभिमानी एवं स्वतंत्रताप्रिय थे। सन 1572 में मेवाड़ के सिंहासन पर बैठते ही उन्हें अभूतपूर्व संकोटो का सामना करना पड़ा, मगर धैर्य और साहस के साथ उन्होंने हर विपत्ति का सामना किया। मुगलों की विराट सेना से हल्दी घाटी में उनका भरी युद्ध हुआ। वहा उन्होंने जो पराक्रम दिखाया, वह भारतीय इतिहास में अद्वितीय है, उन्होंने अपने पूर्वजों की मान – मर्यादा की रक्षा की और प्रण किया की जब तक अपने राज्य को मुक्त नहीं करवा लेंगे, तब तक राज्य – सुख का उपभोग नहीं करेंगे। तब से वह भूमी पर सोने लगे, वह अरावली के जंगलो में कष्ट सहते हुए भटकते रहे, परन्तु उन्होंने मुग़ल सम्राट की अधीनता स्वीकार नहीं की। उन्होंने अपनी मातृभूमि की रक्षा के लिए अपना जीवन अर्पण कर दिया।

maharana pratap.jpg2

सीमित संसाधन होने के बावजूद मुगलों को नाकों चने चबवाने वाले महान योद्धा महाराणा प्रताप का आज है जन्मदिन. उनका जन्म 9 मई 1540 को हुआ था. जानिये मेवाड़ के महाराजा महाराणा प्रताप के बारे में…

1. हल्दीघाटी का युद्ध मुगल बादशाह अकबर और महाराणा प्रताप के बीच 18 जून, 1576 ई. को लड़ा गया था. अकबर और महाराणा प्रताप के बीच यह युद्ध महाभारत युद्ध की तरह विनाशकारी सिद्ध हुआ था.

2. ऐसा माना जाता है कि हल्दीघाटी के युद्ध में न तो अकबर जीत सका और न ही राणा हारे. मुगलों के पास सैन्य शक्ति अधिक थी तो राणा प्रताप के पास जुझारू शक्ति की कोई कमी नहीं थी.

3. महाराणा प्रताप का भाला 81 किलो वजन का था और उनके छाती का कवच 72 किलो का था. उनके भाला, कवच, ढाल और साथ में दो तलवारों का वजन मिलाकर 208 किलो था.

4. आपको बता दें हल्दी घाटी के युद्ध में महाराणा प्रताप के पास सिर्फ 20000 सैनिक थे और अकबर के पास 85000 सैनिक. इसके बावजूद महाराणा प्रताप ने हार नहीं मानी और स्वतंत्रता के लिए संघर्ष करते रहे.

5. कहते हैं कि अकबर ने महाराणा प्रताप को समझाने के लिए 6 शान्ति दूतों को भेजा था, जिससे युद्ध को शांतिपूर्ण तरीके से खत्म किया जा सके, लेकिन महाराणा प्रताप ने यह कहते हुए हर बार उनका प्रस्ताव ठुकरा दिया कि राजपूत योद्धा यह कभी बर्दाश्त नहीं कर सकता.

6. महाराणा प्रताप ने अपने जीवन में कुल 11 शादियां की थीं. कहा जाता है कि उन्होंने ये सभी शादियां राजनैतिक कारणों से की थीं.

7. महाराणा प्रताप को बचपन में कीका के नाम से पुकारा जाता था.

8. महाराणा प्रताप का सबसे प्रिय घोड़ा चेतक था. महाराणा प्रताप की तरह ही उनका घोड़ा चेतक भी काफी बहादुर था.

9. बताया जाता है जब युद्ध के दौरान मुगल सेना उनके पीछे पड़ी थी तो चेतक ने महाराणा प्रताप को अपनी पीठ पर बैठाकर कई फीट लंबे नाले को पार किया था.आज भी चित्तौड़ की हल्दी घाटी में चेतक की समाधि बनी हुई है.

10. हल्दीघाटी के युद्ध में महाराणा प्रताप की तरफ से लडने वाले सिर्फ एक मुस्लिम सरदार था -हकीम खां सूरी.

11. मेवाड़ को बचाने के लिए आखिरी सांस तक लड़ने वाले महाराणा प्रताप 6 बार अकबर को बादशाह मानकर मेवाड़ में राज चलाने की पेशकश ठुकराई. उन्हें किसी ‘विदेशी’ का राज स्वीकार नहीं था.

12. हल्दीघाटी की लड़ाई में उनका वफादार घोड़ा चेतक गंभीर रूप से जख्मी होने की वजह से मारा गया. लेकिन इस शहादत ने उसे खासी शोहरत दिलाई.

13. महाराणा प्रताप के 17 बेटे और 5 बेटियां थीं. महारानी अजाब्दे से पैदा हुए अमर सिंह उनके उत्तराधिकारी बने.

14. उनके अपने ही बेटे ने दगा दिया और महाराणा प्रतापकी मौत के बाद मेवाड़ अकबर को सौंप दिया.

Follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related News

eg
dr. manish ad
media multinate banner
kid-zee
मीडिया को करना हो मल्टीनेट चुनिए मीडिया मल्टीनेट #MEDIAMULTINATE For better media coverage & publicity With all leading news channels & news paper’s MEDIA MULTINATE (Rajasthan most popular Advertising/P.R./Media agency ) https://www.facebook.com/MediaMultinategroup/ — Press Conference , Media Management – call -8114426854 | MM NEWS TV को राजस्थान के सभी संभाग , जिले स्तर पर ब्यूरो हेड की आवश्यकता है संपर्क करें – 8114426854 | MM NEWS TV को राजस्थान के सभी संभाग , जिले स्तर पर ब्यूरो हेड की आवश्यकता है संपर्क करें – 8114426854 | MM NEWS TV को राजस्थान के सभी संभाग , जिले स्तर पर ब्यूरो हेड की आवश्यकता है संपर्क करें – 8114426854 | MM NEWS TV को राजस्थान के सभी संभाग , जिले स्तर पर ब्यूरो हेड की आवश्यकता है संपर्क करें – 8114426854 | MM NEWS TV को राजस्थान के सभी संभाग , जिले स्तर पर ब्यूरो हेड की आवश्यकता है संपर्क करें – 8114426854 | MM NEWS TV को राजस्थान के सभी संभाग , जिले स्तर पर ब्यूरो हेड की आवश्यकता है संपर्क करें – 8114426854 | MM NEWS TV को राजस्थान के सभी संभाग , जिले स्तर पर ब्यूरो हेड की आवश्यकता है संपर्क करें – 8114426854 | MM NEWS TV को राजस्थान के सभी संभाग , जिले स्तर पर ब्यूरो हेड की आवश्यकता है संपर्क करें – 8114426854 | MM NEWS TV को राजस्थान के सभी संभाग , जिले स्तर पर ब्यूरो हेड की आवश्यकता है संपर्क करें – 8114426854 |