पत्रकार ब्लॉग

पत्रा में तो यूँ -कुनबा डूबा क्यूँ- मोदी से कोई बैर नहीं वसुंधरा तेरी खैर नहीं !! mm news tv

पत्रकार ब्लॉग 09 Mar, 2018 12:31 PM
????????????????????????????????????

MM NEWS TV / ओम प्रकाश शर्मा – एक पंडितजी परिवार सहित किसी रिश्तेदारी में जाने के लिए तैयार हुए बीच में एक नदी पडती थी वह नदी काफी गहरी थी पंचांग देखने और पूरी तसली के बाद नदी की गहराई का अध्ययन किया फिर अपने परिवार के सदस्यों की लम्बाई नापी और अपने पारिवारिक सदस्यों की लम्बाई नापने के बाद पंडितजी ने पत्नी सहित सारे बच्चे यह सोचकर नदी में फैंक दिए कि परिवार के सदस्यों की लम्बाई नदी की गहराई से अधिक है परिणाम स्वरूप सारे बच्चे औए पत्नी नदी में डूब गए और पंडितजी सोचने लगे की कहाँ भूल हुई वे बार बार नदी और परिवार के सदस्यों की लम्बाई की गिनती सम्हालते रहे लेकिन इतना नहीं सोचा कि पत्नी और बच्चों की लम्बाई अलग है और नदी की गहराई एक ही है और वे बार बार कहते और सोचने लगे की पंचांग में तो यूँ औरकुनबा डूबा क्यूँ कुछ यही हाल nda का है सत्ता प्राप्त करने और पूरे देश का प्रतिनिधित्व करने के नाम पर इसके रथ में अलग अलग नस्ल के घोड़े जोत दिए इनमे तेलगुदेशम,अकाली,जनता दल u अपना दल,शिव सेना सहित विभिन्न राजनितिक दलों के लगभग 21नेता जुटे और असीमित बहुमत से सत्ता प्राप्त करली जिससे मोदी राष्ट्र नेता का स्वरूप प्राप्त कर सकें वैसे सत्ता का बहुमत भाजपा को प्राप्त होते ही भाजपा अन्य दलों की उपेक्षा करने लगी इधर लोकसभा और विधान सभा चुनाव नजदीक आते ही मोदी रथ के घोड़े इधर उधर चलने लगे राज्य सत्ता निरंकुश हो गयी झुंझनु की मोदी की मीटिंग में तो भाजपा के कार्यकर्त्ता ही राज्य की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के विरोध में उठ खड़े हुए और झुंझनु की जमीन पर मोदी के सामने ही नारा लगा मोदी से कोई बैर नहीं वसुंधरा तेरी खैर नहीं जिसका मतलब राजस्थान की सत्ता इतनी निरंकुश हो गई कि उसके ही कार्यकर्ता उसका प्रधानमन्त्री के सामने कड़ा विरोध करते दिखाई दिए चुनावी वर्ष में महारानी ने मन मोहने वाली घोषणाओं से जब खुद कार्यकर्त्ता इतने नाराज हैं तो आम नागरिक कितना नाराज है इसका अंदाज़ा मुख्यमंत्री तक नहीं लगा पाई तो कैसे वसुंधरा भक्त राजस्थान में भाजपा राज की जो आशा लगाये बैठे हैं वह केवल मुंगेरीलाल के हसीनसपने हैं और यदि nda के साथी एक एक कर मोदी से अलग होते रहे तो ऐसा भी हो सकता है की 2019 के लोकसभा चुनावों में विजय प्राप्त करने के लिए अकेले मोदी को ही चलना पड़े लेकिन अभी तक मोदी की अगली विजय को कोई खतरा है ऐसा लगता तो नहीं है लेकिन खतरे की घंटी तो बजती दिखाई दे ही रही है लेकिन राजस्थान में तो भाजपा दोबारा सत्ता में आएगी इसकी सम्भावना अत्यंत धूमिल है —–और मोदी की मीटिंग में जो भीड़ दिखाई दे वह चित्र में दिखाई दे रही है इतने कम लोगों की उपस्थिति बताती है की आम जन वसुंधरा से कितना नाराज़ है इतना की अब सुधार करने का समय भी नहीं बचा है

Follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related News

eg
dr. manish ad
media multinate banner
kid-zee
25 करोड़ के सट्टे का हिसाब-किताब पकड़ा, 6 सटोरिए गिरफ्तार | राजस्थान की पांच हस्तियां होंगी पद्म श्री से सम्मानित | राजस्थान विधानसभा में नागरिकता कानून बिल के खिलाफ प्रस्ताव पास, विपक्ष का हंगामा | उदयपुर की रहने वाली टीवी एक्ट्रेस ‘दिल तो हैप्पी है जी’ फेम सेजल शर्मा ने किया सुसाइड | छात्रों के लिए बड़ी खबर: कॉलेज और यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले छात्रों को मिलेगी पढाई खर्च से राहत, जानिए कैसे | उपमुख्यमंत्री को माफी मांगनी चाहिये: राजेन्द्र राठौड़ | सूचना जनसंपर्क अधिकारी उड़ा रहे जनसंपर्क मंत्री रघु शर्मा के आदेशों की धज्जियां | बीकानेर: झोलाछाप डॉक्टरों पर कार्रवाई, क्लिनिक सीज  | टोंक: जींस-टीशर्ट नहीं पहन कर आने का आदेश तत्काल प्रभाव से निरस्त, DEO को कारण बताओ नोटिस | ट्रक व ट्रोले की भीषण टक्कर, चार लोगों की दर्दनाक मौत |