राजस्थान

उपमुख्यमंत्री को माफी मांगनी चाहिये: राजेन्द्र राठौड़

राजस्थान 23 Jan, 2020 03:18 PM
rajesndra rathore

जयपुर । जयपुर…15वीं विधानसभा का चैथा सत्र शुक्रवार से शुरू होने जा रहा है, जिसके चलते सदन के अंदर विपक्ष की ओर से कांग्रेस सरकार को घेरने हेतु गुरूवार को भाजपा प्रदेश कार्यालय में विधायक दल की अलग बैठक बुलाई गई।
बैठक की अध्यक्षता नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने की, तो वहीं बैठक में भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां, राष्ट्रीय सह-संगठन प्रभारी वी. सतीश, प्रदेश संगठन महामंत्री चंद्रशेखर और उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ भी मौजूद रहे।
विधायक दल की बैठक के बाद भाजपा के वरिष्ठ नेता और राजस्थान विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष गुलाबचन्द कटारिया मीडिया से रूबरू हुए।

उन्होंने कहा कि सरकार की सबसे बड़ी असफलता का धोतक है कल का विधानसभा सत्र को बुलाना है। एससी एसटी आरक्षण 12 दिसंबर को ही लोकसभा और राज्यसभा में पारित कर दिया गया था। इसमें आधे राज्यों की सहमति आवश्यक होती है और वो सहमति दुर्भाग्य से राजस्थान की सरकार और राजस्थान का प्रशासनिक तंत्र नहीं दे पाया। जिसकों शब्दों में क्या कहूँ, निर्लजता का काम किया है। इसकी 25 जनवरी 2020 तक की समय अवधि है। क्या राज्य सरकार इसको 15 दिन पहले नहीं कर सकती थी क्या राजस्थान की कांग्रेस सरकार नींद में थी जिसके कारण विधानसभा की सारी परम्पराओं को ताक में रखा गया और अब आनन फानन में सत्र बुलाया गया है।

उन्होंने कहा कि एससी एसटी आरक्षण की समय अवधि 25 जनवरी 2020 से 10 साल बढ़ाकर 2030 तक कर दिया गया है। इसके बारे में जो राय देनी थी उसकी अंतिम सीमा 25 जनवरी है। दुर्भाग्य से नींद में सोई सरकार को, अचानक कहीं से इसके बारे में जानकारी मिली। अगर 25 तारीख को हम इस पर अपनी सहमति नहीं देंगे तो राजस्थान का एससी एसटी वर्ग हमारे बारे में यह सोचेगा की राजस्थान सरकार हमारे लिए गंभीर नहीं है। उन्होंने कहा कि हमारी केंद्र सरकार को राजनीति के चक्कर में आरोप प्रत्यारोप करते रहते हैं। 2 अप्रेल 2018 में जो घटना हुई थी उसको लेकर अनाप-शनाप बातें की गई, लेकिन इसको लेकर इनको केवल सहमति देनी थी वह भी समय पर नहीं किया गया। इस कारण 24 तारीख को आनन फानन में सत्र बुलाया गया।

उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट को कटघरे में खड़ा करते हुये कहा कि विधानसभा से सम्बन्धित वक्तव्य कार्य सलाहकार समिति तय करती है कि सदन कब तक चलेगा और उसका प्रतिवेदन जब सदन में मंजूरी के लिये आता है, उसके मंजूर होने के बाद वो सार्वजनिक होता है। इससे पहले भी जब कई बार कार्य सलाहकार समिति ने कोई बात बाहर की है, तो उसे माफी मांगनी पड़ी है। सचिन पायलट को इसका ज्ञान नहीं है, मैं यह मांग करूंगा कि उपमुख्यमंत्री इसके लिये माफी मांगे।

 

Follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related News

eg
dr. manish ad
media multinate banner
kid-zee
राजस्थान में कोरोना वायरस से हुई पहली मौत भीलवाड़ा मे कोरोना पॉजिटिव मिले वृद्ध का पूरी सुरक्षा के बीच कराया जा रहा अंतिम संस्कार | कोरोना का कहर रोकने के लिए दुनिया का सबसे बड़ा लॉकडाउन भारत में शुरू 14 अप्रैल की रात तक सब कुछ बंद | ‘‘ इस समय कर्फ्यू की स्थिति है। इसलिए बाहर ना निकले। यदि आप लोग स्वंय नियन्त्रण नही करेंगे तो कठोरता अपनानी होगी- राज्यपाल | राजस्थान मेें लॉकडाउन के दौरान रोजी-रोटी से वंचित लोगों को मिलेंगे 1000 रूपये | राजस्थान में स्थिति नियंत्रण में , क्वारेंटाइन के लिए 1 लाख बैड किए जा चुके हैं चिन्हित | राजस्थान में कोरोना के 40 मरीज, निजी अस्पतालों में 25 फीसदी बेड्स होंगे कोरोना के लिए आरक्षित | कोरोना संकट पर सुप्रीम कोर्ट का आदेश। सात साल से कम सजा वाले मामलो में कैदियों को 6 हफ्ते के लिए पेरोल की सिफारिश। सभी राज्य सरकारो को उच्च स्तरीय कमेटी बना कर रिहा किये जाने योग्य कैदियों की सूची बनाने के निर्देश। राज्य सरकारों को जेलो में भीड़ कम करने के लिए ध्यान का भी दिया सुझाव | 25 करोड़ के सट्टे का हिसाब-किताब पकड़ा, 6 सटोरिए गिरफ्तार | राजस्थान की पांच हस्तियां होंगी पद्म श्री से सम्मानित | राजस्थान विधानसभा में नागरिकता कानून बिल के खिलाफ प्रस्ताव पास, विपक्ष का हंगामा |