देश

Leap day 2020: अब चार साल बाद आएगी 29 फरवरी, जानिए इसकी वजह

देश 29 Feb, 2020 06:49 AM
leap day 2020

29 फरवरी को लीप ईयर डे के नाम से भी जाना जाता है। फरवरी 28 दिन का महीना होता है लेकिन, हर चार साल में एक बार फरवरी माह 29 दिन का होता है।

अगला लीप ईयर अब साल 2024 और साल 2028 में होगा। लीप ईयर वह साल होता है जिसमें 366 दिन होते हैं। लीप डे के कारण ही फरवरी को साल का सबसे छोटा महीना कहा जाता है।

पिछला लीप ईयर साल 2016 में था और अगला साल 2024 में होगा। यह दिन चार साल में एक बार आता है इसलिए इसको लीप ईयर डे के नाम से जाना जाता है। हर चार साल के बाद यह दिन 29 फरवरी के रूप में हमारे कैलेंडर में दिखता है।

आमतौर पर यह माना जाता है कि धरती सूर्य का पूरा चक्कर 365 दिन में लगाती है, लेकिन सच यह है कि धरती का खगोलीय वर्ष 365.25 दिन का होता है, यानि धरती 365 दिन और 6 घंटे में सूरज का एक चक्कर पूरा करती है।

गूगल भी इस दिन को अपने अंदाज में सेलिब्रेट कर रहा है। गूगल ने अपने डूडल में लोगो बदला है और इसमें 28, 29, और 1 अंक दिखाया गया है जो फरवरी और मार्च के बीच हर चार साल में आने वाले एक अतिरिक्त दिन यानी कि 29 फरवरी को दर्शाता है।

Follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related News

eg
dr. manish ad
media multinate banner
kid-zee
कोरोनावायरस के 80 फीसदी मामलों में मरीज ठीक हो जाते हैं – स्वास्थ्य मंत्रालय | राजस्थान में सम्पूर्ण लोक डाउन/कर्फ्यू के कारण नियमित रूप से दवा लेने वाले मरीजों को होने वाली समस्या के समाधान के लिए राज्य सरकार द्वारा एक राज्य स्तरीय दवा आपूर्ति नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है। यह नियंत्रण कक्ष सुबह 9.30 बजे से सायं 6 बजे तक कार्य करेगा। | राजस्थान में कोरोना वायरस से हुई पहली मौत भीलवाड़ा मे कोरोना पॉजिटिव मिले वृद्ध का पूरी सुरक्षा के बीच कराया जा रहा अंतिम संस्कार | कोरोना का कहर रोकने के लिए दुनिया का सबसे बड़ा लॉकडाउन भारत में शुरू 14 अप्रैल की रात तक सब कुछ बंद | ‘‘ इस समय कर्फ्यू की स्थिति है। इसलिए बाहर ना निकले। यदि आप लोग स्वंय नियन्त्रण नही करेंगे तो कठोरता अपनानी होगी- राज्यपाल | राजस्थान मेें लॉकडाउन के दौरान रोजी-रोटी से वंचित लोगों को मिलेंगे 1000 रूपये | राजस्थान में स्थिति नियंत्रण में , क्वारेंटाइन के लिए 1 लाख बैड किए जा चुके हैं चिन्हित | कोरोना संकट पर सुप्रीम कोर्ट का आदेश। सात साल से कम सजा वाले मामलो में कैदियों को 6 हफ्ते के लिए पेरोल की सिफारिश। सभी राज्य सरकारो को उच्च स्तरीय कमेटी बना कर रिहा किये जाने योग्य कैदियों की सूची बनाने के निर्देश। राज्य सरकारों को जेलो में भीड़ कम करने के लिए ध्यान का भी दिया सुझाव | 25 करोड़ के सट्टे का हिसाब-किताब पकड़ा, 6 सटोरिए गिरफ्तार | राजस्थान की पांच हस्तियां होंगी पद्म श्री से सम्मानित |