राजस्थान

राजस्थान में 31 मार्च तक लॉक डाउन, यह सेवाएं रहेंगी जारी

राजस्थान 22 Mar, 2020 04:29 AM
ashok gahlot

जयपुर । मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोरोना वायरस के संक्रमण से लोगों के जीवन की सुरक्षा के लिए प्रदेशभर में आवश्यक सेवाओं को छोड़कर 22 मार्च से 31 मार्च तक पूरी तरह लॉक डाउन के निर्देश दिए हैं। इस लॉक डाउन के तहत आवश्यक सेवाओं के अतिरिक्ति समस्त राजकीय एवं निजी कार्यालय, मॉल्स, दुकानें, फैक्टि्रयां एवं सार्वजनिक परिवहन आदि बंद रहेंगे।

उन्होंने कहा है कि इस वैश्विक महामारी से निपटने के लिए लोगों का घरों में रहना बेहद जरूरी है। गहलोत शनिवार को मुख्यमंत्री निवास पर कोरोना वायरस के संक्रमण की स्थिति को लेकर समीक्षा कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि संकट के इस दौर में सरकार प्रदेशवासियों के साथ खड़ी है। आमजन कोरोना को हराने के लिए सरकार के निर्णयों और एडवाइजरी का पूरी तरह पालन करें ताकि स्थिति नियंत्रण से बाहर ना हो।

cm gehlot meeting
cm gehlot meeting
दैनिक निर्णयों के लिए कोर गु्रप गठित
मुख्यमंत्री के निर्देश पर कोरोना वायरस से उत्पन्न परिस्थितियों के अुनरूप दैनिक आधार पर अलग-अलग विभागों संबंधी सरकार द्वारा लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय एवं उनको क्रियान्वित कराए जाने के लिए अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह एवं परिवहन राजीव स्वरूप की अध्यक्षता में एक कोर गु्रप का गठन किया गया है। इस गु्रप में अतिरिक्त मुख्य सचिव ग्रामीण विकास, प्रमुख शासन सचिव सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता, शासन सचिव खाद्य एवं आपदा प्रबंधन, शासन सचिव सामान्य प्रशासन, शासन सचिव श्रम और संबंधित विभागों के अतिरिक्त मुख्य सचिव, प्रमुख शासन सचिव एवं शासन सचिव सदस्य होंगे। यह कोर गु्रप लॉकडाउन एवं अन्य पाबंदियों के कारण आम जनता विशेषकर गरीब एवं वंचित वर्ग की आवश्यकताओं हेतु लिए जाने वाले निर्णयों के लिए अपनी अभिशंषा करेगा।
एनएफएसए से जुड़े परिवारों को दो माह का गेहूं निःशुल्क 
मुख्यमंत्री ने कहा कि आपदा के इस दौर में लोगों को खाद्य सामग्री को लेकर किसी तरह की परेशानी नहीं होनी चाहिए। उन्होंने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम से जुड़े एक करोड़ से अधिक परिवारों जिनको एक रूपए एवं दो रूपए प्रतिकिलो गेहूं मिलता है, उन्हें मई माह तक गेहूं निःशुल्क दिए जाने के निर्देश दिए हैं।
शहरी क्षेत्रों में जरूरतमंद परिवारों को मिलेंगे खाद्य सामग्री के पैकेट
गहलोत ने शहरी क्षेत्रों में स्ट्रीट वेण्डर्स, दिहाड़ी मजदूरों एवं ऎसे जरूरतमंद परिवारों जो एनएफएसए की सूची से बाहर हैं, को एक अप्रेल से दो माह तक आवश्यक खाद्य सामग्री के पैकेट निशुल्क उपलब्ध कराए जाने के भी निर्देश दिए हैं। ये पैकेट जिला प्रशासन तथा नगरपालिकाओं के सहयोग से उपलब्ध करवाए जाएंगे।
सामाजिक सुरक्षा पेंशन का वितरण अप्रेल के प्रथम सप्ताह में 
गहलोत ने कहा कि कोरोना वायरस से पैदा हुए हालातों में सभी प्रकार के पेंशनधारियों को आर्थिक परेशानी का सामना नहीं करना पडे़, इसलिए सामाजिक सुरक्षा पेंशन का लाभार्थियों को वितरण अप्रेल माह के प्रथम सप्ताह तक कर दिया जाएगा।
लॉक डाउन के दौरान फैक्ट्री श्रमिकों को मिले सवैतनिक अवकाश
मुख्यमंत्री ने अपील की है कि लॉक डाउन के दौरान बंद रहने वाली फैक्टि्रयों में किसी भी मजदूर को नौकरी से नहीं निकाला जाए तथा उन्हें इस अवधि का सवैतनिक अवकाश देना चाहिए। उन्होंने इसके लिए श्रम विभाग को निर्देश दिए कि फैक्ट्री प्रबंधकों से निरंतर सम्पर्क रखा जाए।
बैठक में मुख्य सचिव डी.बी. गुप्ता, अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह राजीव स्वरूप, अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त श्री निरंजन आर्य, अतिरिक्त मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा रोहित कुमार सिंह, सूचना एवं जनसम्पर्क आयुक्त महेन्द्र सोनी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
Follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related News

eg
dr. manish ad
media multinate banner
kid-zee
कोरोनावायरस के 80 फीसदी मामलों में मरीज ठीक हो जाते हैं – स्वास्थ्य मंत्रालय | राजस्थान में सम्पूर्ण लोक डाउन/कर्फ्यू के कारण नियमित रूप से दवा लेने वाले मरीजों को होने वाली समस्या के समाधान के लिए राज्य सरकार द्वारा एक राज्य स्तरीय दवा आपूर्ति नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है। यह नियंत्रण कक्ष सुबह 9.30 बजे से सायं 6 बजे तक कार्य करेगा। | राजस्थान में कोरोना वायरस से हुई पहली मौत भीलवाड़ा मे कोरोना पॉजिटिव मिले वृद्ध का पूरी सुरक्षा के बीच कराया जा रहा अंतिम संस्कार | कोरोना का कहर रोकने के लिए दुनिया का सबसे बड़ा लॉकडाउन भारत में शुरू 14 अप्रैल की रात तक सब कुछ बंद | ‘‘ इस समय कर्फ्यू की स्थिति है। इसलिए बाहर ना निकले। यदि आप लोग स्वंय नियन्त्रण नही करेंगे तो कठोरता अपनानी होगी- राज्यपाल | राजस्थान मेें लॉकडाउन के दौरान रोजी-रोटी से वंचित लोगों को मिलेंगे 1000 रूपये | राजस्थान में स्थिति नियंत्रण में , क्वारेंटाइन के लिए 1 लाख बैड किए जा चुके हैं चिन्हित | कोरोना संकट पर सुप्रीम कोर्ट का आदेश। सात साल से कम सजा वाले मामलो में कैदियों को 6 हफ्ते के लिए पेरोल की सिफारिश। सभी राज्य सरकारो को उच्च स्तरीय कमेटी बना कर रिहा किये जाने योग्य कैदियों की सूची बनाने के निर्देश। राज्य सरकारों को जेलो में भीड़ कम करने के लिए ध्यान का भी दिया सुझाव | 25 करोड़ के सट्टे का हिसाब-किताब पकड़ा, 6 सटोरिए गिरफ्तार | राजस्थान की पांच हस्तियां होंगी पद्म श्री से सम्मानित |